Saturday, December 3, 2022
No menu items!
No menu items!
HomeHindi Nibandhप्रदूषण कैसे नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रहा है पर निबंध...

प्रदूषण कैसे नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रहा है पर निबंध | Essay on How Pollution is Negatively Affecting Humanity in Hindi

Pollution is Negatively Affecting Humanity in hindi: प्रदूषण एक प्रमुख उभरती हुई समस्या है जिसका सामना पूरी मानवता कर रही है। इस शब्द और इसके परिणामों से सभी भली-भांति परिचित हैं। यह दुनिया के विभिन्न मंचों पर चर्चा का ज्वलंत विषय बन गया है। प्रदूषण इस कदर बढ़ रहा है कि यह समस्या भविष्य में इंसानियत के अस्तित्व के लिए एक बड़ा सवाल बन जाएगी।

प्रदूषण मानवता को नकारात्मक रूप से कैसे प्रभावित कर रहा है – लघु और दीर्घ निबंध – Essay on How Pollution is Negatively Affecting Humanity in Hindi

छात्रों को अक्सर निबंध लिखने, असाइनमेंट तैयार करने या भाषण देने के लिए कहा जाता है कि प्रदूषण मानवता को नकारात्मक रूप से कैसे प्रभावित कर रहा है। मैंने ऐसे निबंध प्रदान किए हैं जो स्कूलों और कॉलेजों के छात्रों के लिए इस विषय पर निबंध, असाइनमेंट या भाषण लिखने का विचार प्राप्त करने में सहायक हो सकते हैं।

लघु निबंध – 250 शब्द

परिचय

पूरी दुनिया में प्रदूषण एक गंभीर समस्या बन गया है। प्रदूषण दर में वृद्धि के लिए मानवीय गतिविधियाँ प्रमुख रूप से जिम्मेदार हैं। प्रदूषण की बढ़ती दर मुख्य रूप से हमारे आसपास मौजूद हवा, पानी और मिट्टी की गुणवत्ता को प्रभावित कर रही है। इस महत्वपूर्ण समस्या से हमारी पृथ्वी को बचाने और इसे मानवता के अस्तित्व के लिए एक बेहतर जगह बनाने की सख्त जरूरत है।

पारिस्थितिकी तंत्र के संतुलन को बिगाड़ रहा प्रदूषण

सभी जीवित जीव और पर्यावरण एक दूसरे पर अन्योन्याश्रित हैं और यह एक पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करता है। पारिस्थितिकी तंत्र में मनुष्य की महत्वपूर्ण भूमिका है। पारिस्थितिकी तंत्र में संतुलन आवश्यक है और यह स्वाभाविक रूप से बना रहता है। यह बढ़ती प्रदूषण दर पारिस्थितिक तंत्र में संतुलन को बाधित करने का मुख्य कारण है। विकास कार्यों के परिणामस्वरूप जंगलों की अत्यधिक कटाई और वनस्पतियों की सफाई होती है। इसका सीधा असर उस जगह की हवा, पानी और मिट्टी की गुणवत्ता पर पड़ता है और यह वहां रहने वाले सभी जीवों के लिए एक बड़ी समस्या बन जाती है। ये परिवर्तन इंसानों के साथ-साथ जानवरों की विभिन्न प्रजातियों के अस्तित्व के लिए एक बड़ा खतरा हैं।

प्रदूषण- जलवायु परिवर्तन का एक प्रमुख कारण

विभिन्न प्रकार के रासायनिक प्रदूषकों का निकलना वायु प्रदूषण में वृद्धि का सबसे महत्वपूर्ण कारण है। यह हमारे आस-पास की हवा को सांस लेने के लिए गंदी बना देता है। वायु प्रदूषण के स्तर में यह वृद्धि सीधे तौर पर जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग के लिए जिम्मेदार है। जलवायु परिस्थितियों में परिवर्तन मनुष्य और पृथ्वी पर विभिन्न प्रजातियों के अस्तित्व के लिए बहुत हानिकारक है। इसके परिणामस्वरूप मौसम के पैटर्न में परिवर्तन होता है जो मानव और विभिन्न प्रजातियों के जानवरों के अस्तित्व के लिए हानिकारक है। इसके अलावा, जलवायु परिस्थितियों में परिवर्तन भी बाढ़, सूखा, गर्मी के तूफान जैसी विभिन्न आपदाओं का कारण बनता है। इन आपदाओं का मानवता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और कई घातक बीमारियों के फैलने की संभावना बढ़ जाती है।

निष्कर्ष

हमें बढ़ते प्रदूषण की दर को कम करने के लिए उचित कदम उठाने की जरूरत है अन्यथा यह मानवता के अस्तित्व के लिए सबसे बड़ी समस्या बन जाएगी।

प्रदूषण पर लंबा निबंध – मानव जाति के अस्तित्व के लिए एक बड़ा खतरा

परिचय

यह अच्छी तरह से कहा गया है कि इस दुनिया में हर चीज के दो पहलू होते हैं। एक है सकारात्मक और दूसरा उस चीज का नकारात्मक पहलू। उसी तरह एक ओर मानव के आधुनिकीकरण और तकनीक ने हमारे लिए अनेक संभावनाओं के द्वार खोल दिए हैं। प्रदूषण जो इस क्रांति का नकारात्मक पहलू है, ने मानवता को बहुत प्रभावित किया है।

प्रदूषण क्या है?

महात्मा गांधी की यह पंक्तियाँ कि “प्रकृति जिसने हमें मनुष्य की आवश्यकता के लिए पर्याप्त प्रदान की लेकिन मनुष्य के लालच के लिए नहीं” प्रदूषण को परिभाषित करने के लिए बिल्कुल सही है। यह लालच ही एक ऐसी चीज है जो पर्यावरण प्रदूषण के लिए जिम्मेदार है। कोई भी चीज जरूरत से ज्यादा मात्रा में लेने पर जहर बन जाती है। क्या यह सच नहीं है? उसी प्रकार प्रदूषण भी प्रकृति में संसाधनों के अत्यधिक दोहन का परिणाम है।

प्रदूषण को पर्यावरण की गुणवत्ता में गिरावट के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। यह गिरावट पर्यावरणीय कारकों को बदलकर पर्यावरण में कई बदलाव लाती है। यह अचानक परिवर्तन पूरी मानव जाति पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। यह दिन-ब-दिन गंभीर होता जा रहा है। विभिन्न प्रकार के प्रदूषण पैदा करने के लिए मानवीय गतिविधियाँ बहुत जिम्मेदार हैं।

प्रदूषण के प्रकार

प्रदूषण एक छोटा शब्द है लेकिन इसका व्यापक अर्थ है। विभिन्न प्रकार के प्रदूषण हैं जो पूरी मानव जाति पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहे हैं।

  • वायु प्रदूषण और उसके प्रभाव – वाहनों से निकलने वाले उत्सर्जन, धूल, रासायनिक एरोसोल कण, उद्योगों से निकलने वाला धुआं आदि हमारे आसपास की हवा की गुणवत्ता को खराब कर रहे हैं। मानवीय गतिविधियों से उत्पन्न होने वाले ये वायु प्रदूषक वायु को सांस लेने के लिए अशुद्ध बना रहे हैं। इसके अलावा, हवा की खराब गुणवत्ता पृथ्वी पर रहने वाले अन्य जीवों के लिए भी हानिकारक है।
  • जल प्रदूषण और उसके प्रभाव – कीटनाशकों, औद्योगिक अपशिष्टों, भारी धातुओं, सीवेज आदि जैसे रसायनों को जल निकायों में मिलाने से पानी की गुणवत्ता में कमी आती है। पानी की घटती गुणवत्ता जलीय जीवों और मनुष्यों को बहुत प्रभावित कर रही है। दूषित पानी में कम घुली हुई ऑक्सीजन होती है जो जलीय जीवों के लिए उपयुक्त नहीं होती है। हम सभी इस बात से अच्छी तरह वाकिफ हैं कि पृथ्वी पर ताजे पानी का प्रतिशत बहुत कम है। मानवीय गतिविधियों का प्रभाव इस मीठे पानी को भी दूषित कर रहा है। वह दिन दूर नहीं जब पानी के लिए एक और विश्वयुद्ध छिड़ जाएगा। इस प्राकृतिक संसाधन की कमी से मानवता के अस्तित्व को खतरा होगा।
  • मृदा प्रदूषण और उसके प्रभाव – फसलों की अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए रासायनिक उर्वरकों के उपयोग से मिट्टी की गुणवत्ता में गिरावट आई है। इससे मिट्टी में आवश्यक पोषक तत्वों की कमी हो जाती है और इसकी संरचना बदल जाती है। ऐसी दूषित मिट्टी में उगने वाली फसलों में पोषक तत्वों की कमी होती है। इस प्रकार मृदा प्रदूषण भी मानवता को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रहा है।

प्रदूषण मानवता को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रहा है – कैसे

प्रदूषण ग्लोबल वार्मिंग, जंगल की आग, भूकंप, तूफान, बाढ़ सूखा, जलवायु परिवर्तन आदि जैसी प्रमुख समस्याओं का मूल कारण है। ये समस्याएं पूरी मानव जाति के लिए बड़ी विनाश और गंभीर समस्याएं पैदा करती हैं। विभिन्न प्रकार के प्रदूषणों के परिणामस्वरूप मनुष्य में विभिन्न विकार और रोग उत्पन्न होते हैं। वायु प्रदूषण के स्तर में वृद्धि के कारण हमने कई लोगों को गंभीर श्वसन विकारों से पीड़ित देखा है। दूषित पानी भी इंसानों और जानवरों के पीने के लिए सुरक्षित नहीं है। हम जो भोजन करते हैं वह भी मिट्टी के दूषित होने के कारण पोषक तत्वों की कमी है। ये सभी समस्याएं बढ़ते प्रदूषण के स्तर के कारण हुई हैं। विभिन्न प्रकार के प्रदूषण के कारण होने वाली विभिन्न बीमारियाँ कई लोगों की असमय मृत्यु का कारण बन रही हैं।

प्लास्टिक प्रदूषण भी आजकल एक प्रमुख चिंता का विषय है। प्लास्टिक को आसानी से खराब नहीं किया जा सकता है और सैकड़ों वर्षों तक वैसा ही बना रहता है। प्लास्टिक कचरे को जलाने से डाइऑक्सिन नामक जहरीली गैस निकलती है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। कई जानवर और पक्षी भोजन के साथ गलती से प्लास्टिक का सेवन कर लेते हैं। प्लास्टिक उनके खाने की नली या श्वासनली को बंद कर देता है और इसके परिणामस्वरूप उनकी मृत्यु हो जाती है। प्लास्टिक प्रदूषण समुद्री जीवों को भी नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रहा है।

प्रदूषण रोकने के उपाय

प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए विकल्पों और महत्वपूर्ण तरीकों का इस्तेमाल समय की सबसे बड़ी जरूरत है। धरती की स्थिति दिन-ब-दिन चिंताजनक होती जा रही है। यह पृथ्वी पर प्रत्येक व्यक्ति की सामाजिक जिम्मेदारी है कि वह मानवता के अस्तित्व के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दे।

  • प्राकृतिक संसाधनों के महत्व को समझें और उनके उपयोग को सीमित करें।
  • जलने के लिए ईंधन के रूप में कम सल्फर सामग्री वाले कोयले का उपयोग करना।
  • परिवहन के लिए साइकिल का प्रयोग करें।
  • हमें कार-पूलिंग रणनीति अपनानी चाहिए।
  • निपटान से पहले कचरे को गीला और सूखा के रूप में अलग करें।
  • 3 R के रिड्यूस, रीयूज और रीसायकल को अपनाना।
  • उपयोग में न होने पर लाइट और उपकरणों को बंद करके बिजली बर्बाद करना बंद करें।
  • विभिन्न प्रकार के प्रदूषणों और उनके प्रभावों के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ाना।
  • अधिक से अधिक पेड़ लगाएं क्योंकि वे ग्रीनहाउस गैसों को अलग करते हैं।

क्या प्रदूषण मानव जाति के अस्तित्व के लिए एक बड़ा खतरा है?

इसमें कोई शक नहीं कि अगर इस तरह से प्रदूषण का स्तर बढ़ता है तो यह मानव अस्तित्व के लिए एक बड़ा खतरा होगा। विभिन्न देशों में बढ़ते ग्लोबल वार्मिंग के स्तर के कारण जलवायु परिस्थितियों में भारी परिवर्तन चिंताजनक है। प्राकृतिक आपदाओं का घटित होना विनाश का प्रारंभिक संकेत है। यदि मनुष्य को जल्द से जल्द अपनी गलती का एहसास नहीं हुआ तो पछताने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचेगा। औद्योगीकरण, जनसंख्या विस्फोट, शहरीकरण, वनों की कटाई जैसे कारकों के कारण संसाधनों का अत्यधिक दोहन हुआ है। इस पृथ्वी पर प्रत्येक पारिस्थितिकी तंत्र की सीमित वहन क्षमता है। जनसंख्या-स्तर में वृद्धि के कारण संसाधनों के अति प्रयोग से संसाधनों का ह्रास होता है। इस प्रकार अन्य जीवों को मानवीय गतिविधियों का खामियाजा भुगतना पड़ता है।

इसके अलावा, बर्फ का पिघलना और पृथ्वी पर तापमान के स्तर में उल्लेखनीय वृद्धि प्रदूषण का प्रतिकूल प्रभाव है। यह मानवता के लिए अच्छी खबर नहीं है। हाल ही में दुनिया महामारी कोविड -19 से पीड़ित रही है जिसे प्रकृति द्वारा मनुष्य को दी गई सजा के रूप में माना जाता है। मनुष्य के लिए यह एक छोटी सी चेतावनी है कि प्रकृति बदला लेने की क्षमता रखती है और खुद को ठीक कर लेती है।

निष्कर्ष

दुनिया का हर देश प्रदूषण के गंभीर प्रभावों से जूझ रहा है। प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए विभिन्न देशों की सरकारों द्वारा कई पहल की गई हैं। इस मुद्दे के खिलाफ लड़ने के लिए हम सभी को आगे आना जरूरी है। हर स्तर के लोगों की अधिक से अधिक भागीदारी निश्चित रूप से प्रदूषण के परिणामों को कम करने और हमारी पृथ्वी को मानवता के लिए एक सुरक्षित स्थान बनाने में मदद करेगी।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q.1 जापान में 1956 के दौरान दूषित मछली खाने से कौन सा रोग हुआ था?

उत्तर:. मिनामाता रोग मिथाइल मरकरी से दूषित मछली खाने से होता था।

Q.2 अम्लीय वर्षा के प्रमुख घटक क्या हैं?

उत्तर:. अम्लीय वर्षा के प्रमुख घटक एसओएक्स और एनओएक्स हैं।

Q.3 प्राथमिक प्रदूषक क्या हैं?

उत्तर:. प्रदूषक जो सीधे पर्यावरण में छोड़े जाते हैं, प्राथमिक प्रदूषक हैं।

Q.4 सीएफ़सी पर्यावरण को कैसे प्रभावित करता है?

उत्तर:. सीएफ़सी वायु प्रदूषक हैं और पृथ्वी की ओजोन परत को नुकसान पहुंचाते हैं।

Q.5 अस्वास्थ्यकर वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) के बारे में कौन सा रंग इंगित करता है?

उत्तर:. लाल रंग अस्वस्थ एक्यूआई का संकेत देता है।

Q.6 ताजमहल का रंग सफेद से पीला क्यों हो रहा है?

उत्तर:. यह अम्लीय वर्षा में सल्फर डाइऑक्साइड की उच्च सांद्रता के कारण होता है।

यह भी पढ़ें
यह भी पढ़ें
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments