विपत्ति कैसे एक व्यक्ति को बदल सकती है पर निबंध | Essay on How Adversity can Change a Person In Hindi

Spread the love

Adversity can Change a Person in hindi: प्रतिकूलता मनुष्य के जीवन की वह स्थिति है जिसमें असंभव से संभव में बदलने की शक्ति होती है। हम सभी ने कई वास्तविक जीवन की घटनाओं के बारे में सुना होगा जो यह साबित करने के लिए सबसे अच्छे उदाहरण हैं कि प्रतिकूलता ही व्यक्ति के भाग्य को बदलने का कारण है। जब भी हम किसी व्यक्ति के बारे में सुनते हैं जो विपरीत परिस्थितियों के बावजूद जीवन में अधिक ऊंचाई प्राप्त करता है, तो यह हमें प्रोत्साहित करता है।

विपत्ति कैसे एक व्यक्ति को बदल सकती है – लघु और दीर्घ निबंध

परीक्षा की दृष्टि से और प्रतियोगी परीक्षा के उम्मीदवारों के लिए यह एक अच्छा विषय है। मैंने इस विषय के बारे में एक छोटे और लंबे निबंध के रूप में विस्तार से बताया है और आशा करता हूँ कि यह छात्रों को इस विषय पर एक निबंध, असाइनमेंट या प्रोजेक्ट लिखने के लिए एक विचार प्राप्त करने में सहायक हो सकता है।

लघु निबंध – 250 शब्द

परिचय

प्रतिकूलता को मनुष्य के जीवन में बुरी या प्रतिकूल स्थिति के रूप में जाना जाता है। यह मनुष्य के जीवन का एक कठिन दौर है लेकिन उन्हें मजबूत बनाने में मदद करता है। ऐसे लोग हैं जो प्रतिकूलता के साथ पैदा हुए हैं। वे अपनी विपत्ति को अपनी ताकत बनाकर अपना जीवन जीने लगते हैं। प्रतिकूलता कभी भी किसी के भी जीवन का हिस्सा हो सकती है और इसलिए हमें इस बदलाव को स्वीकार करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए।

प्रतिकूलताएं हमें हमारी वास्तविक क्षमताओं का एहसास कराती हैं

जीवन अच्छे और बुरे अनुभवों से भरा है। ऐसा नहीं हो सकता कि हमारे जीवन में केवल अच्छी चीजें ही होती हैं। विपरीत परिस्थितियाँ वे परिस्थितियाँ हैं जो हमारे अंदर मजबूत बनने और स्थिति का बहादुरी से सामना करने का साहस पैदा करती हैं। यह हमसे सर्वश्रेष्ठ लाने में मदद करता है। जब हमें वह सब कुछ मिल जाता है जो हम अपने जीवन में चाहते हैं, तो हम उसे पाने का दर्द कभी नहीं जान पाते हैं। इस तरह हम अपनी वास्तविक क्षमता के बारे में कभी नहीं जान पाते हैं। विपरीत परिस्थिति एक चुनौतीपूर्ण स्थिति है जो हमें अपनी आंतरिक क्षमता और प्रतिभा का एहसास कराती है। बदलाव लाने के लिए चुनौतियां महत्वपूर्ण हैं।

प्रतिकूलता का परिणाम सबसे अच्छा या सबसे खराब बनाने में होता है

हमने जीवन में प्रतिकूल परिस्थितियों के कारण नष्ट हुए लोगों के कई उदाहरण सुने होंगे। हमारे जीवन में विपरीत परिस्थितियों का आना एक सामान्य बात है। हमें इस दर्दनाक स्थिति से लड़ने और इससे छुटकारा पाने की जरूरत है। हम इस स्थिति को कभी नहीं जीत सकते यदि हम आशा खो देते हैं या इसके लिए भगवान और भाग्य को दोष देते हैं। हम में से बहुत से लोग जन्म से ही प्रतिकूलताओं का सामना करते हैं लेकिन उससे बाहर आने के लिए लगातार स्थिति से लड़ रहे हैं। हमें याद रखना चाहिए कि हर बादल में चांदी की परत होती है। इसलिए, इस चुनौती को स्वीकार करने से हमें निराश होने और सबसे खराब बनने के बजाय सर्वश्रेष्ठ बनने में मदद मिल सकती है।

निष्कर्ष

दुनिया में कई लोगों की सफलता के पीछे प्रतिकूलता एक प्रमुख कारण रही है। वे अपने जीवन में प्रतिकूलताओं की उपस्थिति के बिना अपनी क्षमता का एहसास नहीं कर पाते।

पर लंबा निबंध क्या प्रतिकूलता एक व्यक्ति को बदल सकती है

परिचय

पूरी दुनिया कई सफल शख्सियतों से भरी पड़ी है। उन लोगों में से अधिकांश ने अपनी सफलता के पीछे एक ही इतिहास साझा किया है। जब भी हम उनकी सफलता के पीछे की कहानी के बारे में पढ़ते हैं, तो हमें उनके जीवन के एक दुखद दौर का पता चलता है जो प्रतिकूलताओं से भरा हुआ था जिसने उन्हें सफलता हासिल करने में मदद की। यह हमेशा कहा जाता है कि “नो पेन, नो गेन”। प्रतिकूलता जीवन में बुरा समय है जो हमें जीवन में सफल होने के लिए निर्देशित करती है।

प्रतिकूलता क्या है

नाम के रूप में प्रतिकूलता इसे मनुष्य के लिए एक प्रतिकूल स्थिति के रूप में परिभाषित करती है। यह हमारे जीवन में दर्दनाक परिस्थितियों और संघर्षों की घटना है लेकिन वास्तव में हमें जीवन के तथ्य का एहसास कराने के लिए आवश्यक है। हम में से हर कोई हर तरह के सुख के साथ एक अच्छे जीवन का सपना देखता है। यह संभव नहीं हो सकता क्योंकि जीवन सुखी और दुखद दोनों चरणों से बना है। प्रतिकूलताएं किसी के भी जीवन में आ सकती हैं लेकिन यह हम पर निर्भर करता है कि हम उनसे कैसे पार पाते हैं। मानसिक या शारीरिक अक्षमताओं के साथ जन्म लेने वाले विकलांग लोग अपने जन्म से ही प्रतिकूलताओं का सामना करते हैं। यह प्रतिकूलता उनका कभी विरोध नहीं करती बल्कि यह उनके जीवन में सफल होने के लिए एक प्रेरक शक्ति के रूप में कार्य करती है।

आज तक कई विकलांग लोग हैं जिन्होंने शारीरिक विपत्तियों को एक चुनौती के रूप में माना है और बदलाव लाने की पूरी कोशिश की है। भारत में 2014 UPSC सिविल सेवा परीक्षा की टॉपर इरा सिंघल का हालिया उदाहरण। वह ‘स्कोलियोसिस’ नामक एक विकलांगता से पीड़ित थी, लेकिन उसने इसे अपनी कमजोरी के रूप में कभी नहीं समझा और सिविल सेवा परीक्षा को पास किया, जो भारत में सबसे कठिन परीक्षा है। यह उनका आत्मविश्वास था और उन्होंने अपनी विकलांगता को प्रतिकूलता के रूप में नहीं बल्कि एक अवसर के रूप में माना।

विभिन्न प्रकार की प्रतिकूलताएँ क्या हैं?

इस दुनिया में कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है जिसके जीवन में कोई कठिनाई न हो। जीवन की पूरी यात्रा के दौरान मनुष्य को विभिन्न प्रकार की प्रतिकूलताओं का सामना करना पड़ सकता है।

  • शारीरिक प्रतिकूलताएं – यह विकलांगता जन्म या शारीरिक अक्षमता से हो सकती है जो किसी बीमारी या दुर्घटना के कारण होती है।
  • मानसिक प्रतिकूलताएं – कुछ घटनाएं ऐसी होती हैं जो मानसिक बीमारी या मन के तनाव का कारण बनने वाली शारीरिक स्थिति को बिगाड़ देती हैं। यह अस्थायी या स्थायी हो सकता है और इसे मानसिक प्रतिकूलता के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। यह लोगों की सोचने की क्षमता को कम करता है।
  • वित्तीय प्रतिकूलता – यह सबसे आम प्रकार की प्रतिकूलता है जिसका लोग अपने जीवन में सामना करते हैं। यह पैसे की समस्या से संबंधित है। यह गरीबी और भूख के चरणों की ओर भी ले जाता है।
  • भावनात्मक प्रतिकूलता – हमारी भावना और सोच हमारे काम करने के तरीके को प्रभावित करती है। अत्यधिक भावुकता अच्छी नहीं है और हमारे लिए परेशानी खड़ी करती है।
  • आध्यात्मिक प्रतिकूलता – जो लोग भगवान या किसी और को नहीं मानते हैं उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है जब वे अपने आप को नीचा महसूस करते हैं या नकारात्मकता से भरे होते हैं।
  • सामाजिक प्रतिकूलता – सामाजिक संपर्क हमें अच्छा महसूस कराता है। ऐसे लोग हैं जो खुद को समाज से वंचित करते हैं और अकेले रहते हैं। वे ज्यादातर अकेलापन महसूस करते हैं और डिप्रेशन के मरीज बन जाते हैं।

हमारे जीवन में विपरीत परिस्थितियों पर विजय प्राप्त करना

यह सच में कहा गया है कि प्रत्येक व्यक्ति अपने भाग्य के लिए स्वयं जिम्मेदार है। विपरीत परिस्थितियाँ हमारे जीवन की परिस्थितियाँ हैं जो हमें अपने जीवन में कुछ करने का मौका देती हैं। विपरीत परिस्थितियाँ हमारे जीवन में आने से पहले हमें कभी भी सचेत नहीं करती हैं बल्कि यह कभी भी आ सकती हैं। कुछ लोग अपने जीवन में विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हुए अपनी स्थिति पर रोते रहते हैं वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो इन विपत्तियों को एक अवसर के रूप में लेते हैं। केवल हम मनुष्य ही हैं जो विपरीत परिस्थितियों से वांछित परिवर्तन ला सकते हैं। जीवन की प्रतिकूलताएं हमें अपनी छिपी प्रतिभा और ताकत को साकार करने में मदद करती हैं और हम सफल होने के लिए उसी के अनुसार आगे बढ़ते हैं।

हम में से अधिकांश लोग अपने जीवन में विपरीत परिस्थितियों से घबरा जाते हैं और इसे अपना भाग्य समझकर जीवन भर सहन करने के लिए तैयार रहते हैं। यह सच नहीं है क्योंकि हम कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प से अपना भाग्य बदल सकते हैं। इसके अलावा, विपत्तियां हमें हमारे जीवन में प्रोत्साहन प्रदान करती हैं। यह सकारात्मकता हमें अपने जीवन की विपरीत परिस्थितियों से लड़ने में मदद करती है। यह हमारे जीवन में किसी भी प्रकार की समस्याओं का सामना करने के लिए हमारे शरीर और मन की आंतरिक शक्ति का भी निर्माण करता है।

विपरीत परिस्थितियाँ हमारे जीवन का टर्निंग पॉइंट हैं

दुनिया में कई जानी-मानी हस्तियां हैं जिन्हें अपनी क्षमताओं का एहसास कभी नहीं होता अगर उनके जीवन में प्रतिकूलता न होती। वे अपने जीवन की प्रतिकूलताओं को दूर करने की शक्ति के कारण हमारे समाज के रत्न हैं। महात्मा गांधी पूरी दुनिया में एक जाना पहचाना नाम है। गांधीजी के पास सब कुछ था और वे कभी नहीं जानते थे कि एक दिन वे दुनिया के महान नेता होंगे। दक्षिण अफ्रीका में उनके साथ जो अन्याय हुआ वह प्रतिकूलता थी जिसका उन्होंने दृढ़ता से सामना किया और इसने उन्हें एक दिन एक महान भारतीय नेता और स्वतंत्रता सेनानी के रूप में चमकाया। विपरीत परिस्थितियाँ ऐसी परिस्थितियाँ हैं जो हमारे प्रयास और स्थिति पर विजय प्राप्त करने के चुनौतीपूर्ण रवैये से हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण मोड़ बन सकती हैं।

महामारी कोविड -19 का आघात 2020 से आज तक पूरी दुनिया के लिए बहुत बड़ी प्रतिकूलता है। इस स्थिति ने लोगों को पर्यावरण के प्रति मानव की लापरवाही का एहसास कराया। इसने मानव जाति को एक सबक दिया और कई नई संभावनाओं को जन्म दिया। जीवन बहुत आसान लगता है जब तक हम अपने जीवन में किसी भी प्रतिकूलता का सामना नहीं करते। यह वास्तविक अवसर है जो हमें अपने जीवन में सफल बनाने की शक्ति रखता है।

प्रतिकूलता किसी व्यक्ति को कैसे बदल सकती है?

प्रतिकूलता व्यक्ति के चरित्र को बदलने में सक्षम है। यह लोगों को उनके जीवन में कठिनाइयों का सामना करने के लिए अधिक साहस और आत्मविश्वास के साथ समृद्ध करता है। यह व्यक्ति की जीवन को समझने की क्षमता को बढ़ाता है। जिस प्रकार धातुओं को चमकने के लिए कई शुद्धिकरण विधियों से गुजरना पड़ता है, उसी तरह लोगों की क्षमताओं को परिष्कृत करने के लिए प्रतिकूलताओं की आवश्यकता होती है जो उन्हें सफलता के साथ चमकाते हैं। महान वैज्ञानिक और भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का प्रारंभिक जीवन दुखों से भरा रहा। बचपन से ही आर्थिक तंगी का सामना करने के बावजूद उन्होंने कभी हिम्मत और उम्मीद नहीं खोई। उनके ध्यान और आत्मनिर्णय ने उन्हें अपने जीवन में हर तरह की प्रतिकूलताओं पर विजय प्राप्त करने के लिए प्रेरित किया। आज वह पूरे देश और दुनिया के लोगों के लिए एक मिसाल हैं।

विपरीत परिस्थितियाँ हमें जीवन का पाठ पढ़ाती हैं। यह हमें अपने जीवन में हर कठिन परिस्थिति को संभालने के लिए बहादुर बनाता है। सबसे अच्छा तरीका है इसे स्वीकार करना और अपना जीवन जीना। दूसरों को दोष देने के बजाय हर समस्या का समाधान ढूंढ़ना अच्छा है। जिस तरह से हम अपने जीवन में विपरीत परिस्थितियों का समाधान ढूंढते हैं, वह हमारी क्षमता और साहस को निर्धारित करता है। यह कहा जा सकता है कि प्रतिकूलता व्यक्ति को बदल सकती है यदि लोगों में इसे बेहतर तरीके से दूर करने की शक्ति हो।

निष्कर्ष

हमें अपने जीवन में आने वाली प्रतिकूलताओं का हमेशा स्वागत करना चाहिए। यह हमें जीवन का वास्तविक अनुभव प्रदान करता है और हमें अधिक बुद्धि और परिपक्वता विकसित करने में मदद करता है। वास्तविक अर्थों में प्रतिकूलता एक महान अवसर है जो हमें वह बनने में मदद करती है जो हम वास्तव में हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q.1 प्रतिकूलता हमारे लिए क्यों फायदेमंद है?

उत्तर:. यह हमें आत्म निर्भर बनाने में मदद करता है और जीवन के संघर्षों से छुटकारा पाने का साहस जुटाता है।

Q.2 जीवन में विपरीत परिस्थितियाँ हमें क्या सिखाती हैं?

उत्तर:. यह हमें कठिनाइयों से सीखना और जीवन में बेहतर इंसान बनना सिखाता है।

Q.3 विपरीत परिस्थितियाँ हमें कैसे सफल बनाती हैं?

उत्तर:. प्रतिकूलताएं प्रोत्साहन प्रदान करती हैं जो हमें सफलता की ओर ले जाती हैं।

Q.4 क्या हमें मानसिक रूप से मजबूत बनाता है?

उत्तर:. यह हमारा आत्मविश्वास और आशावादी रवैया है।

Q.5 प्रतिकूलता के लिए डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का उद्धरण क्या था?

उत्तर:. “प्रतिकूलता हमेशा आत्मनिरीक्षण के अवसर प्रस्तुत करती है” प्रतिकूलता के लिए डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का उद्धरण था।

Leave a Comment