Saturday, December 3, 2022
HomeHindi Nibandhपौधे इतने महत्वपूर्ण क्यों हैं पर निबंध | Essay on Why Plants...

पौधे इतने महत्वपूर्ण क्यों हैं पर निबंध | Essay on Why Plants are so Important for us In Hindi

Essay on Why Plants are so Important for us: क्या आप सोच सकते हैं कि अगर पृथ्वी पर पौधे न होते तो क्या होता? पौधों के बिना जीवन संभव नहीं होगा। पौधे और जानवर इस ग्रह पर जैविक समुदाय के दो प्रमुख रूप हैं। सूक्ष्मजीवों से लेकर मनुष्य तक लगभग हर जानवर अपने अस्तित्व के लिए पौधों पर निर्भर है। हमें पौधों के महत्व के बारे में और अधिक जानने की जरूरत है।

पौधे हमारे लिए इतने महत्वपूर्ण क्यों हैं – लघु और दीर्घ निबंध – Essay on Why Plants are so Important for us In Hindi

लघु निबंध – 250 शब्द

परिचय

जो बीज हम जमीन में बोते हैं वे बाद में बड़े होकर जड़, तना और पत्तियों वाला पौधा बन जाते हैं। ये पौधे कुछ वर्षों के बाद पेड़ बन जाते हैं। हम अपने परिवेश में विभिन्न प्रकार के पौधों को देख सकते हैं। पृथ्वी पर सभी जीवित जीवों के अस्तित्व के लिए पौधों का अस्तित्व महत्वपूर्ण है।

पौधे चुपचाप और नि:शुल्क पूरे संयंत्र की सेवा कर रहे हैं

दूसरों के लिए कुछ भी करते हैं या किसी की मदद करते हैं तो घमंड करना इंसान की आदत है। पौधे हमें वह सब कुछ प्रदान करके हमारी सेवा कर रहे हैं जिसकी हमें आवश्यकता है। सबसे महत्वपूर्ण चीज जो वे हमें प्रदान करते हैं वह ऑक्सीजन है जो एक जीवन रक्षक गैस है। इसके अलावा, वे ग्रह पर रहने वाली लाखों प्रजातियों को आश्रय और भोजन प्रदान करते हैं। पौधे जीवित जीव हैं लेकिन उनमें बोलने की क्षमता नहीं होती है। वे हमें अलग-अलग जरूरी चीजें मुहैया करा रहे हैं लेकिन चुपचाप। हमें भगवान का शुक्रगुजार होना चाहिए कि उन्होंने हमें इस धरती पर इतनी अद्भुत रचना दी है।

अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहे पौधे

हम हमेशा उन लोगों का ख्याल रखते हैं जो हमारे शुभचिंतक हैं या हमारे बारे में अच्छा सोचते हैं। इसी तरह पौधे भी हमारे शुभचिंतकों के समान हैं और इस पृथ्वी पर रहने वाले सभी जीवों के लिए अत्यधिक महत्व रखते हैं। हम सभी इस तथ्य से अवगत हैं कि पौधों की उपस्थिति के बिना हमारा अस्तित्व असंभव है। यह बताते हुए दुख हो रहा है कि हम अपने जीवन में पौधों के महत्व को जानने के बावजूद लगातार उन्हें नुकसान पहुंचा रहे हैं। हम उन पौधों को कैसे नुकसान पहुंचा सकते हैं जो हमें बिना किसी शुल्क के बहुत उदारता से सब कुछ प्रदान करते हैं? अत्यधिक मानवीय गतिविधियों के कारण पौधे अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

निष्कर्ष

पृथ्वी पर पौधों की उपस्थिति पूरी मानवता के लिए एक महान वरदान है। यह हमारा कर्तव्य है कि हम अधिक से अधिक पेड़ लगाएं और उन्हें विनाश और काटने की प्रक्रिया से बचाएं।

मैंने इस विषय पर एक लंबा निबंध भी प्रदान किया है जो आपको पौधों के महत्व से अवगत कराएगा। इसके अलावा, यह छात्रों के लिए इस विषय पर एक निबंध, परियोजना और असाइनमेंट लिखने का विचार प्राप्त करने में सहायक हो सकता है।

लंबा निबंध – 1150 शब्द

परिचय

इस धरती पर कई तरह के पौधे मौजूद हैं। पौधे पृथ्वी पर सबसे महत्वपूर्ण जैविक कारक हैं। वे अनमोल उपहार हैं जो हमें प्रकृति माँ द्वारा प्रदान किया गया है। पेड़ के रूप में पौधे इस पृथ्वी पर विभिन्न जीवित जीवों का घर हैं। प्रकृति की इस अनमोल इकाई का भारी विनाश वास्तव में दुखद और बहुत चिंता का विषय है।

पौधे – मानव जाति के लिए प्रकृति का एक अनमोल उपहार

जब हम छोटे बच्चे होते हैं तो हम कभी नहीं जानते कि पौधों में भी जीवन होता है। बाद में हमें सिखाया जाता है कि पौधे जीवित जीव हैं लेकिन मनुष्य की तरह अपनी भावनाओं और भावनाओं को व्यक्त करने में असमर्थ हैं। वे चुपचाप इस धरती पर रहने वाले जीवों के पूरे समूहों की देखभाल करते हैं और उनकी जरूरतों की पूर्ति करते हैं। अधिकांश पौधे हरे पौधे हैं और वे प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया द्वारा अपना भोजन स्वयं बनाने में सक्षम हैं।

पौधे जीवित जीव हैं जो एक स्थान से दूसरे स्थान पर नहीं जा सकते हैं और जड़ों द्वारा एक स्थान पर स्थिर होते हैं। वे बड़े होकर बड़े पेड़ बन जाते हैं। जड़ी-बूटियाँ, झाड़ियाँ और पेड़ पृथ्वी पर विभिन्न प्रकार के पौधे हैं। पौधों की विशेषताएं उनके मूल स्थान के अनुसार भिन्न होती हैं। पौधे हमारे लिए इस ग्रह पर मौजूद हर रूप में आवश्यक हैं।

पौधों का महत्व

पौधे इस पृथ्वी पर रहने वाले सभी जीवों को आवश्यक सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। पृथ्वी पर जीवन के विकास के समय से ही यह हमारे लिए आवश्यक था। हमारे लिए पौधों के कई महत्व नीचे सूचीबद्ध हैं:

सभी जीवों को भोजन प्रदान करने वाला – हरे पौधे स्वपोषी कहलाते हैं। वे अपना भोजन स्वयं बना सकते हैं। पशु और मनुष्य हमारे भोजन के लिए प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से पूरी तरह से पौधों पर निर्भर हैं। पौधों को उत्पादक भी कहा जाता है। मनुष्य की खाद्य आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए हर साल पौधों की किस्मों को उगाया जाता है। पौधे हमें विभिन्न प्रकार के अनाज, दालें, सब्जियां, फल, मेवा आदि प्रदान करते हैं। विभिन्न प्रकार के पौधे उत्पाद पृथ्वी पर रहने वाले जीवों के लिए भोजन हैं। अगर हम मांसाहारी की बात करें तो वे भी अप्रत्यक्ष रूप से पौधों पर निर्भर हैं क्योंकि वे भोजन के लिए पौधों पर निर्भर जानवरों को खाते हैं।

हमारे लिए ऑक्सीजन प्रदाता – ऑक्सीजन एक गैस है जो जीवित जीवों के अस्तित्व के लिए सबसे महत्वपूर्ण है। यह वह गैस है जो श्वसन में सहायता करती है। ऑक्सीजन की उपस्थिति के बिना जीवन संभव नहीं होगा। पौधे ही हमें ऑक्सीजन के एकमात्र प्रदाता हैं। वे प्रकाश संश्लेषण की अपनी खाद्य निर्माण प्रक्रिया के उपोत्पाद के रूप में ऑक्सीजन गैस का उत्पादन करते हैं।

लकड़ी और अन्य उत्पाद प्रदान करें – जिस लकड़ी का उपयोग हम विभिन्न प्रकार के फर्नीचर बनाने के लिए करते हैं जो हमारी जीवन शैली और विलासिता को बढ़ाता है, वह पेड़ों से उत्पन्न लकड़ी से प्राप्त होता है। विभिन्न पौधे और पेड़ हमें तेल, रबर, राल, कपड़े के रेशे आदि भी प्रदान करते हैं।

दवा बनाने में होता है इस्तेमाल- जड़ी-बूटियों, झाड़ियों और पेड़ों के रूप में कई प्रकार के पौधे हैं जिनमें औषधीय गुण होते हैं। इन पौधों के भाग जैसे पत्ते, छाल, फल आदि विभिन्न रोगों को ठीक करने के लिए दवा तैयार करने में सक्रिय घटक के रूप में उपयोग किए जाते हैं। प्राचीन समय में लोग शरीर में घाव या कई छोटे-छोटे संक्रमणों को ठीक करने के लिए पौधे के अंगों या रस को सीधे लगाते थे।

मृदा अपरदन रोकने में सहायक – पौधे मिट्टी की ऊपरी परत को बांधने में मदद करते हैं और मिट्टी की परतों को बरकरार रखते हैं। पौधों और वनस्पतियों की जड़ें मिट्टी को बांधती हैं और मिट्टी के कटाव को रोकती हैं। इसके अलावा, पौधे वर्षा जल को अवशोषित करने और अपवाह और अपव्यय को रोकने में मदद करते हैं। वर्षा जल अवशोषण जो पौधों और पेड़ों द्वारा पोषित होता है, भूमिगत जल स्तर को रिचार्ज करके भूमिगत जल स्तर को बढ़ाने में सहायक होता है।

आध्यात्मिक रूप से महत्वपूर्ण – कई धर्मों में कई पौधों को पवित्र माना जाता है। पौधे फूल पैदा करते हैं जिनका उपयोग लोग भगवान की पूजा के लिए करते हैं। आध्यात्मिक महत्व के साथ-साथ पौधे परिदृश्य में सुंदरता जोड़ते हैं। तरह-तरह के पौधों से भरा प्रकृति का नजारा हमारे तन और मन को आनंद की अनुभूति कराता है।

प्राकृतिक वायु शोधक के रूप में पौधे

उद्योगों से निकलने वाला धुआं, वाहनों से निकलने वाला उत्सर्जन और अन्य गैसें हमारे आसपास की हवा की गुणवत्ता को खराब करने में योगदान करती हैं। ये गैसीय प्रदूषक हवा को जीवित जीवों के अस्तित्व के लिए अनुपयुक्त बनाते हैं। कार्बन डाइऑक्साइड ग्लोबल वार्मिंग के लिए जिम्मेदार प्रमुख ग्रीनहाउस गैसीय प्रदूषकों में से एक है जो ऊपर बताए गए प्रदूषकों में जारी किया जाता है। पौधे अपने भोजन के निर्माण के लिए कार्बन डाइऑक्साइड का उपयोग करते हैं। इस प्रकार पौधे वातावरण में उपस्थित कार्बन डाइऑक्साइड गैस का अधिकतम प्रतिशत उपभोग करते हैं। वे वायु प्रदूषण पैदा करने वाले गैसीय प्रदूषकों को अवशोषित करके पर्यावरण को प्राकृतिक रूप से साफ करते हैं।

पौधे पृथ्वी पर जल विज्ञान चक्र के नियामक हैं

नदियों, महासागरों और अन्य जल निकायों से सीधे पानी के वाष्पीकरण द्वारा जल चक्र जारी रहता है। पौधे पृथ्वी पर जल विज्ञान चक्र को विनियमित करने में भी योगदान करते हैं। पौधों से वाष्पोत्सर्जन के रूप में जो पानी निकलता है वह हवा में वाष्पित हो जाता है। यह वह पानी है जो पृथ्वी के अंदर मौजूद है और पौधों की जड़ों द्वारा अवशोषित किया जाता है। इस प्रकार, मिट्टी के अंदर का भूमिगत जल भी पृथ्वी पर जल चक्र को नियंत्रित करने में भाग लेता है। वाष्पोत्सर्जन की घटना भी वर्षा के परिणामस्वरूप वातावरण को ठंडा करने में मदद करती है।

क्या मानवीय गतिविधियाँ पौधों की कई प्रजातियों के विलुप्त होने की ओर ले जा रही हैं?

मानवीय गतिविधियाँ जैसे औद्योगीकरण, शहरीकरण, कई परियोजनाएँ, इमारतों और परियोजनाओं की सिद्धि के लिए पेड़ों की अनिश्चितकालीन कटाई आदि पौधों के विनाश का कारण बन रही हैं। इंसानों के स्वार्थ के कारण पौधों की कई प्रजातियां विलुप्त हो चुकी हैं। हम उन पौधों और पेड़ों को कैसे नुकसान पहुंचा सकते हैं जो चुपचाप हमारी आवश्यकताओं को पूरा कर रहे हैं? एक आरामदायक जीवन के लिए मनुष्य की इच्छा ने पेड़ों की अत्यधिक कटाई और व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए वनस्पति क्षेत्रों को साफ करने के लिए प्रेरित किया है। अत्यधिक वनों की कटाई उन लाखों जीवों को बेघर और भूखा बनाने का प्रमुख कारण है जो अपने अस्तित्व के लिए पौधों पर निर्भर हैं। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि पृथ्वी कई जीवित जीवों और पौधों का घर है। हमें अपने लालच के कारण अन्य जीवों के अस्तित्व का विरोध करने का कोई अधिकार नहीं है।

पौधों का संरक्षण समय की सबसे बड़ी जरूरत है और प्रकृति के प्रति हमारी लापरवाही की प्रतिपूर्ति के लिए यही सबसे अच्छा उपाय बचा है। यह आवश्यक है कि हमें अपने लिए पौधों के अस्तित्व के महत्व का एहसास होना चाहिए। वनों की कटाई और विलुप्त होने से पौधों की हानि पृथ्वी पर जीवित जीवों के अस्तित्व को बहुत प्रभावित करेगी।

निष्कर्ष

पौधे पृथ्वी के संपूर्ण जीवित जीवों को कई सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। वे हमें सब कुछ मुफ्त में इस उम्मीद के साथ देते हैं कि हम उनकी अच्छी देखभाल करेंगे। यह बताते हुए बहुत दुख होता है कि मनुष्य प्रकृति के प्रति अपनी जिम्मेदारी भूल गया है। पारिस्थितिक तंत्र का संतुलन तभी मौजूद होता है जब प्रत्येक इकाई संतुलित अवस्था में हो। हमें पौधों को काटने या विलुप्त होने से बचाने और अधिक से अधिक पेड़ लगाने की जरूरत है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q.1 पौधे के बीज में पौधे का कौन सा भाग सबसे पहले उगता है?

उत्तर:. बीज का मूलक पहले पौधे की जड़ के रूप में विकसित होता है।

Q.2 पौधों में प्रकाश संश्लेषक वर्णक कहाँ स्थित होता है?

उत्तर:. प्रकाश संश्लेषक वर्णक पौधे की पत्ती के थायलाकोइड्स में स्थित होते हैं।

Q.3 पौधों में कौन सा वर्णक पौधों के फूलने के लिए जिम्मेदार है?

उत्तर:. पौधों में फ्लोरिजेन वर्णक पौधों में पुष्पन के लिए उत्तरदायी होता है।

Q.4 होली के रंग बनाने के लिए किस पेड़ के फूलों का उपयोग किया जाता है?

उत्तर:. टेसू के फूलों को सुखाकर होली के रंग बनाने में इस्तेमाल किया जाता है।

Q.5 पौधों के किस समूह की जड़ें, पत्तियां और तना नहीं होता है?

उत्तर:. ब्रायोफाइट्स पौधे का वह समूह है जिसमें जड़, तना और पत्ती नहीं होती है।

यह भी पढ़ें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments