Saturday, August 13, 2022
HomeHindi Nibandhईमानदारी सबसे अच्छी नीति क्यों है पर निबंध| Essay on Why Honesty...

ईमानदारी सबसे अच्छी नीति क्यों है पर निबंध| Essay on Why Honesty is the Best Policy in Hindi

Honesty is the Best Policy in Hindi: बेंजामिन फ्रैंकलिन द्वारा कही गई कहावत ‘ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है’ सबसे पुरानी कहावतों में से एक है जो सदियों से प्रासंगिक रही है। जीवन में सच्चे और सच्चे होने की नीति ही हमें अपने जीवन में सफल बनाती है। अक्सर हमें विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं और स्कूलों में इन विषयों पर लिखने के लिए प्रदान किया जाता है।

ईमानदारी सर्वोत्तम नीति क्यों है – लघु और दीर्घ निबंध

इस विषय पर संक्षिप्त और लंबा निबंध आपको इस विषय पर विवरण से अवगत कराएगा। इससे छात्रों और पाठकों को इस विषय पर निबंध लिखने के बारे में एक विचार मिलेगा।

लघु निबंध (250 शब्द)

परिचय

ईमानदारी को हमेशा सबसे अच्छी नीति माना जाता है। बहुत कम उम्र से बच्चों को उनके माता-पिता और शिक्षकों द्वारा अपने जीवन में ईमानदार होना सिखाया जाता है। ईमानदारी एक ऐसा गुण है जो लोगों को झूठ बोलने या धोखा देने से रोकता है। ईमानदार लोग कभी भी दूसरों से नहीं डरते और शांतिपूर्ण और सुखी जीवन जीते हैं।

ईमानदारी हमेशा झूठ के खिलाफ जीतती है

ईमानदारी की राह पर चलना मुश्किल है लेकिन हमेशा सही होता है। किसी भी तरह की परेशानी वाली स्थिति से बचने के लिए लोग अक्सर झूठ बोलते हैं। झूठ बोलने का यह कार्य हमें उसी क्षण बचा सकता है लेकिन यह कभी भी सही मार्ग नहीं है। एक झूठ का हमेशा एक कमजोर आधार होता है और वह एक झूठे ढांचे पर बना होता है जबकि सत्य का एक मजबूत आधार होता है। झूठ के खिलाफ लड़ाई में हमेशा सच की जीत होती है। झूठ सच को जीतने से कभी नहीं रोक सकता। सत्य शक्तिशाली है और इसलिए झूठ सत्य की वास्तविकता को कभी नहीं बदल सकता।

ईमानदारी हमारे अंदर बहुमूल्य गुण पैदा करती है

ईमानदारी हमारे अंदर कुछ मूल्यवान गुणों को विकसित करके हमारे चरित्र के निर्माण में मदद करती है। जीवन की हर स्थिति में सच बोलने के लिए बहुत साहस की आवश्यकता होती है। इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि ईमानदारी हमें साहसी और साहसी बनाती है। ईमानदार लोगों को उनकी वफादारी के कारण दूसरों द्वारा आसानी से भरोसा किया जा सकता है। वे अपने कार्यों में ईमानदार हैं। ईमानदारी दूसरों के साथ अच्छे संबंध बनाने में मदद करती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ईमानदार लोग सच बोलते हैं और इसलिए उन पर दूसरों का भरोसा होता है। ईमानदार लोग अपने जीवन में किसी चीज से नहीं डरते। वे सच बोलते हैं और इसलिए झूठ बोलने वालों की तरह पकड़े जाने से नहीं डरते। मजबूत नैतिक चरित्र के साथ-साथ जिम्मेदार नागरिक बनने में हमारी मदद करने के लिए ईमानदार होने से हमारे अंदर जो गुण विकसित होते हैं।

निष्कर्ष ईमानदारी ही समाज में व्याप्त भ्रष्टाचार से मुक्ति का उपाय है। ईमानदार लोगों की संख्या में वृद्धि से राष्ट्र की प्रगति होगी। ईमानदार लोगों को समाज में हर कोई प्यार और सम्मान करता है।

ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति निबंध क्यों है – लंबा निबंध (1050 शब्द)

परिचय

ईमानदारी हमारे चरित्र का आभूषण है। कहावत है कि अगर धन गया तो कुछ नहीं गया अगर स्वास्थ्य गया तो कुछ गया लेकिन चरित्र गया तो सब कुछ खो गया। जिस प्रकार आभूषण हमारे शरीर की सुंदरता को बढ़ाते हैं उसी प्रकार ईमानदारी एक ऐसा गुण है जो चरित्र की सुंदरता को बढ़ाता है। इसे सबसे आवश्यक गुणों में से एक माना जाता है जो हम में से प्रत्येक के पास होना चाहिए।

ईमानदारी क्या है?

ईमानदारी जीवन की हर स्थिति में हमेशा सच बोलने का गुण है। ईमानदारी का अर्थ केवल सच बोलने तक ही सीमित नहीं है बल्कि इसमें देखभाल, जिम्मेदारी और दूसरों की भावनाओं का सम्मान करना भी शामिल है। यह एक व्यक्ति को अनुशासित, समय का पाबंद, अच्छा व्यवहार करने वाला और अपने जीवन में नियमों और विनियमों का पालन करने के लिए बनाता है। जीवन की हर स्थिति में ईमानदार होना सबसे कठिन है लेकिन यह कभी भी बदतर स्थिति की ओर नहीं ले जाता है। ईमानदारी हमारे जीवन में सफलता का आधार है। ईमानदारी एक ऐसी चीज है जो एक पल में नहीं मिलती बल्कि अभ्यास करने के बाद धीरे-धीरे हमारी आदत में आ जाती है। जब हम अपने जीवन में हर बार सच बोलते हैं तो यह हमें आंतरिक संतुष्टि देता है।

ईमानदारी सबसे अच्छी नीति क्यों है?

हमें बचपन से ही हमारे माता-पिता और बाद में स्कूलों में जीवन की हर परिस्थिति में ईमानदार रहना सिखाया जाता है। स्कूलों में हमें कई कहानियों और कविताओं द्वारा जीवन में ईमानदारी की अवधारणा और महत्व के बारे में पढ़ाया जाता है। कई बार हम वास्तविक जीवन में ईमानदारी का अभ्यास करने के व्यावहारिक उदाहरण देखते हैं और इस प्रकार जीवन में ईमानदारी का अभ्यास करने के अच्छे प्रभावों को समझते हैं।

  • हमें सफल बनाता है – ईमानदारी हमारे जीवन में सफल होने का आधार है। यह एक महान गुण है जो व्यक्ति में स्वयं होता है। यदि हम अपने जीवन में ईमानदार हैं तो हम एक अनुशासित जीवन व्यतीत करेंगे और उचित नियमों और विनियमों का पालन करके अपना जीवन व्यतीत करेंगे। सफल होने के लिए जीवन में एक लक्ष्य होना चाहिए और उस पर ध्यान केंद्रित कर कड़ी मेहनत करनी चाहिए। ईमानदारी हमारे जीवन में सफल होने के लिए आवश्यक इन सभी बिंदुओं को विकसित करने में हमारी मदद करती है। अब्राहम लिंकन, महात्मा गांधी आदि सफल व्यक्तित्वों के महान उदाहरण हैं क्योंकि उन्होंने हमेशा सत्य के मार्ग का अनुसरण किया।
  • अच्छे संबंध बनाने में मदद करता है – विश्वास हर तरह के रिश्ते की बुनियाद है। विश्वास के बिना कोई भी रिश्ता संभव नहीं है। विश्वास विकसित करने के लिए जीवन की सभी स्थितियों में ईमानदार होना आवश्यक है। जो लोग हम पर विश्वास करते हैं वे हमसे सत्य की अपेक्षा करते हैं। हमारा सच्चा स्वभाव उन्हें हम पर विश्वास करने का कारण देता है लेकिन झूठ केवल लोगों को चोट पहुँचा सकता है और रिश्ते को खत्म कर सकता है। हम झूठ बोलकर कभी भी उनके भरोसे को जिंदा नहीं रख सकते। ऐसा हो सकता है कि झूठ किसी मुश्किल स्थिति से बाहर आने में मदद कर सकता है लेकिन आपको ज्यादा समय तक नहीं बचा सकता। कुछ समय के लिए हमारी सच्चाई की वजह से हमारी उपेक्षा की जा सकती है लेकिन दूसरे व्यक्ति के विश्लेषण के बाद पूरी बात ईमानदार होने के लिए हमारी सराहना करेगी।
  • विश्वास हासिल करने में मदद करता है – सत्य व्यक्ति को समाज, परिवार और दोस्तों में भरोसेमंद बनाता है। लोग आसानी से ईमानदार व्यक्ति पर भरोसा और भरोसा कर सकते हैं। ईमानदारी वह नीति है जो लोगों को हम पर भरोसा करने और सम्मान करने में मदद करती है। ट्रस्ट समाज में दोस्तों, परिवार और लोगों के साथ अच्छे संबंध बनाने में मदद करता है। एक झूठ सारे भरोसे को तोड़ देता है और सौ झूठों का अग्रदूत होता है। लोग उस व्यक्ति पर कभी विश्वास नहीं कर पाते हैं और इस प्रकार उसे अपने जीवन में इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है। ट्रस्ट कैरियर, व्यवसायों, अध्ययन आदि में अधिक से अधिक ऊंचाइयों को प्राप्त करने में मदद करता है।
  • हमें बहादुर और आत्मविश्वासी बनाता है – ईमानदारी वह गुण है जो हमें महान आंतरिक शक्ति से प्रबुद्ध करता है। यह हमें हमारे जीवन में बहादुर और आत्मविश्वासी बनाता है। महात्मा गांधी सत्य को जीवन का सबसे शक्तिशाली हथियार मानते थे। उन्होंने कहा कि अगर हम सच बोल रहे हैं तो हमें कभी किसी से नहीं डरना चाहिए। सच बोलना हममें कोई दोष नहीं छोड़ता है और हमें बहादुरी से अपने विचारों और विचारों को दूसरों के सामने रखने में मदद करता है।
  • तन और मन की शांति प्राप्त करने में सहायक – सच बोलने और झूठ बोलने का विकल्प नहीं चुनने के बाद हमें मन की शांति और बड़ी संतुष्टि मिलती है। झूठ बोलने के बाद हम अंदर से परेशान हो जाते हैं और हमेशा के लिए उसके अपराध बोध में पड़ जाते हैं। दूसरे, जब हम झूठ बोलते हैं तो हमें हमेशा अपने झूठ के सामने आने का डर रहता है। सच्चाई इस डर से बाहर निकलने में मदद करती है और लोगों को खुद के प्रति सच्चे रहने में मदद करती है। यह हमारी आत्म-क्षमता पर विश्वास करने और हममें आत्म-सम्मान विकसित करने में मदद करता है।

ईमानदारी एक जन्मजात या अर्जित गुण है?

ईमानदारी एक महान गुण है जो जीवन में नियमित रूप से अभ्यास करने के बाद हमारे अंदर आता है। यह हमें जन्म से नहीं दिया गया है। यदि यह गुण हमें जन्म से ही दिया जाता तो इस दुनिया में कोई भी झूठ बोलने और गलत कार्य करने का प्रयास नहीं करेगा। माता-पिता बच्चों को बचपन से ही सच बोलना सिखाते हैं। हमें झूठ बोलने की सजा भी मिलती है। हमें सजा इसलिए दी जाती है ताकि हम अपनी गलतियों से सीख सकें और उन्हें फिर कभी न दोहराएं।

सत्य की शक्ति को हमारे राष्ट्रपिता यानी महात्मा गांधी के जीवन से अच्छी तरह से निर्धारित किया जा सकता है। उन्होंने सत्य को मनुष्य में सबसे आवश्यक गुण माना। गांधीजी हमारे देश को ब्रिटिश शासन से मुक्त करने में केवल इसलिए सफल हुए क्योंकि वे सत्य और अहिंसा के अनुयायी थे। सच्चे होने का गुण हमें धीरे-धीरे और धीरे-धीरे प्राप्त होता है। यह पूरी तरह से हम पर निर्भर करता है कि हम अपने अंदर यह गुण पैदा करने और इसे स्वीकार करने के लिए कितना तैयार हैं। कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि हमें अपने अंदर इस गुण को विकसित करने की जरूरत है क्योंकि यह हमें अपने जीवन के हर पहलू में चमकाता है। ईमानदारी हमें अपने परिवार, दोस्तों और समाज के लोगों से प्यार और सम्मान प्रदान करती है जिससे इसे सबसे अच्छी नीति कहा जा सकता है।

निष्कर्ष

ईमानदार लोग जीवन की किसी भी स्थिति में कभी भी झूठ बोलना नहीं चुनते हैं। इस सच्चाई के कारण ही उन्हें अपने आसपास के लोगों से ढेर सारा प्यार और सम्मान मिलता है। वे आसानी से दूसरों के द्वारा भरोसा किया जा सकता है और इसलिए उनके जीवन में आजीवन मित्रता से लाभान्वित होते हैं। लोगों द्वारा ईमानदारी की गुणवत्ता को सबसे अधिक महत्व दिया जाता है और झूठ बोलना जीवन में बदतर परिस्थितियों का कारण है। ईमानदार होना भ्रष्टाचार मुक्त वातावरण और समाज और राष्ट्र की प्रगति को भी बढ़ावा देता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q.1 ईमानदारी क्या है?

उत्तर:. यह हमारे जीवन में अपने और दूसरों के प्रति सच्चे होने का गुण है।

Q.2 ‘ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है’ किस प्रकार का वाक्य है?

उत्तर:. यह वाक्य एक सार्वभौमिक सत्य है।

Q.3 क्या कभी-कभी झूठ बोलना बेहतर होता है?

उत्तर:. कभी-कभी स्वार्थी उद्देश्यों को छोड़कर अच्छे इरादों के लिए झूठ बोलना कभी-कभी ठीक होता है।

Q.4 किसने कहा ‘कोई विरासत इतनी समृद्ध नहीं है जितनी ईमानदारी’?

उत्तर:. ये शब्द विलियम शेक्सपियर ने कहे थे।

Q.5 ईमानदार होना मुश्किल क्यों है?

उत्तर:. ऐसा इसलिए है क्योंकि सत्य हमेशा कड़वा होता है और इसे पचाना आसान नहीं होता है।

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments